*बुद्धिवादी आंदोलन के प्रणेता गाडगे बाबा की कर्मभूमि ऋणमोचन की यात्रा*

0

ऋणमोचन में बड़ी संख्या में पहुंचे संत गाडगे के अनुयायी

युगपुरुष, निष्काम कर्मयोगी, स्वच्छता अभियान के प्रणेता संत गाडगे महाराज जी की कर्मभूमि श्री क्षेत्र ऋणमोचन (अमरावती, महाराष्ट्र) में प्रतिवर्ष पौष माह में लगने वाले मेले में 19 जनवरी, 2020 को जाने का अवसर मिला।
वहाँ सांसद नवनीत राणा गाडगे बाबा की कर्मभूमि ऋणमोचन पहुंचकर जरूरतमंदों को कम्बल वितरित किया और समस्त श्रद्धालुओं को इस निमित्त शुभेच्छा दिया। उन्होंने गाडगे बाबा को याद करते हुए कि गाडगे महाराज से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है, उनका आशीर्वाद हमारे साथ है। अगले 2-3 वर्षों में 10 करोड़ की विकासीय परियोजना का काम इस क्षेत्र में पूर्ण हो जाएगा। साथ ही उन्होंने सांसद निधि से भी 10 लाख रुपए विकास कार्य हेतु खर्च करने की घोषणा की।
विदित हो कि ऋणमोचन में लगने वाला यह वही मेला है जहां 1905 में गाडगे बाबा के गृह त्याग के बाद 1917 में पहली बार बाबा तत्कालीन पयोसिनी (अब पूर्णा) नदी के किनारे स्नानार्थियों की सुविधा हेतु फिसलन भारी सीढ़ियों पर सुखी मिट्टी डालकर चलने लायक बनाते हुए देखे गए थे। तब से लेकर आज तक यह मेला प्रतिवर्ष लगता आ रहा है और यहां भूखों को भोजन तथा वस्त्रहीनों को वस्त्र वितरित किया जा रहा है। गाडगे बाबा की मृत्यु (20 दिसंबर, 1956) के बाद भी (101 वर्षों से) यह अनवरत जारी है।
श्री संत गाडगे बाबा कर्मभूमि स्मारक समिति श्री बालाजी के नेतृत्व में यहां पर प्रति वर्ष एक आयोजन करती है जहां पर संत गाडगे महाराज और महाराष्ट्र के प्रबोधनकारी संतों के भजनों का गायन होता है। इस बार सप्त खंजरी वादक सत्यपाल महाराज ने अपने सरल और सहज भाषा में बहुत सारी कुरीतियों पर प्रहार करते हुए अपनी प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में चंद्रपुर के सुभाष शिंदे जी ने 1 लाख रुपए प्रतिवर्ष समिति को श्री क्षेत्र ऋणमोचन में अपनी जमीन पर विकास कार्य के लिए देने की घोषणा की। साथ ही मूर्तिजापुर के प्रशांत चाकर जी ने भी 1 लाख रुपए की सहयोग राशि प्रदान की।
ऋणमोचन में श्री संत गाडगे बाबा कर्मभूमि स्मारक समिति की काफी जमीन भी है जहां पर समिति लंगर का आयोजन करती है। इस मेले में धोबी समुदाय के अतिरिक्त देश के विभिन्न हिस्सों से विभिन्न समुदायों के लोग पहुंचते हैं।
डेबूजी यूथ ब्रिगेड की टीम साथी *राहुल वरणकर* जी के नेतृत्व में मेले में आए हुए लोगों को बड़ी तत्परता और सेवा भाव के साथ चाय का वितरण किया।
मेले में बहुत से लोग अपनी सामर्थ्य के अनुसार लंगर का आयोजन करते हैं जिससे मेले में आए हुए लोगों को भोजन वितरित किया जाता है।
मेले में हमने *WOrD* समूह के साथी *नीलकांत* जी, व श्री *विजय सावरकर* जी और युवा साथी *समीर वी सावरकर* के साथ महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों से आए हुए धोबी समुदाय के तरक्की पसंद तमाम ऊर्जावान साथियों से मिलना संभव हुआ। समुदाय से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा-परिचर्चा हुई।
साथी विजय सावरकर जी और समीर वी. सावरकर जी www.dhobisamaj.com का संचालन कर रहे हैं। जिस पर फेसबुक की तरह account बना सकते हैं और chat कर सकते हैं।
आगामी 23 फरवरी, 2020 को *डेबूजी यूथ ब्रिगेड (राहुल वरणकर जी और उनके साथी)* पहली बार गाडगे बाबा जन्मस्थान व पैतृक गांव शेंडगांव में गाडगे बाबा का जन्मोत्सव मना रहा है। विदित हो कि इसके पूर्व शिवरात्रि (जन्मतिथि के अनुसार) पर ही जन्मोत्सव मनाया जाता है/रहा है।
तो आइए चलते हैं अपने पुरखे *गाडगे महाराज का जन्मोत्सव (23 फरवरी, 2020 को)* उनके गांव में मनाने।
ऋणमोचन की यात्रा करवाने के लिए यादों को कैमरे में सहेजने के लिए *WOrD* समूह के साथी नीलकांत जी का विशेषरूप से आभार🙏🏻🙏🏻🙏🏻।

*नरेन्द्र दिवाकर*
मो. 9839675023

Leave A Reply

Your email address will not be published.