धोबी समुदाय के गौरव श्री लंका के पूर्व राष्ट्रपति मा. रणसिंघे प्रेमदासा

0

रणसिंघे प्रेमदासा, श्रीलंका के राजनेता (जन्म 23 जून, 1924, कोलंबो, सीलोन [अब श्रीलंका] – मृत्यु 1 मई, 1993, कोलंबो), थे वे राष्ट्रीय नेता के रूप में 25 से अधिक वर्षों तक रहे। नेशन स्टेट असेंबली में 1977-1988 तक रहे और बतौर प्रधानमंत्री 1978-1988 तक तथा राष्ट्रपति के रूप में 1989-1993 तक श्री लंकन सरकार में रहे। वे सिंहली में एक धोबी जाति के परिवार में पैदा हुए थे। वे निम्न जाति के पहले ऐसे सदस्य थे जिन्होंने देश का नेतृत्व किया और उन्हें उच्च-जाति के राजनीतिक विरोधियों की काफी नाराजगी का भी सामना करना पड़ा। पहले वह एक युवा के रूप में वह एक सामाजिक आंदोलन में शामिल थे, उन्होंने बौद्ध नैतिक मूल्यों को बढ़ावा दिया। वे 1949 में सीलोन लेबर पार्टी में शामिल हुए और अगले साल कोलंबो में स्थानीय सरकार में पदार्पण किया। 1956 में वे यूनाइटेड नेशनल पार्टी (UNP) के सदस्य के रूप में विधानसभा का चुनाव लड़े परंतु वह असफल रहे। उन्हें 1960 में जीत हासिल हुई, लेकिन चुनाव के चार महीने बाद ही वह एक चुनाव हार (snap election) गए थे। 1965 में जब यूएनपी को बहुमत प्राप्त हुआ, तो उन्हें फिर से सत्ता में आए और उन्हें मुख्य सरकारी सचेतक (chief government whip) नामित किया गया। स्थानीय सरकार (1968-70; स्थानीय सरकार, आवास और निर्माण, 1977-88) के मंत्री के रूप में, उन्होंने एक लाख से कम लागत वाले घरों के निर्माण की देखरेख की, जिससे सिंहली के कामकाजी वर्ग के बीच उनकी लोकप्रियता बढ़ी और उन्हें समर्थन भी खूब मिला। 1987 में जब उन्होंने उत्तरी श्रीलंका में तमिल अलगाववादियों से लड़ने के लिए भारतीय सैनिकों के इस्तेमाल का विरोध किया था। उन पर आरोप भी लगे कि उन्होंने तमिलों को हथियारों की आपूर्ति की। प्रेमदासा को अक्सर निरंकुश और निर्दयी कहा जाता था, लेकिन राष्ट्रपति के रूप में उनके कड़े शासन के तहत तमिल गृहयुद्ध को रोकने में प्रगति हासिल की। एक पूर्व सुरक्षा मंत्री और डेमोक्रेटिक यूनाइटेड नेशनल फ्रंट के संस्थापक ललित अथुलथमुदली के एक प्रांतीय चुनावी रैली को संबोधित करने के दौरान अथुलथमुदली को गोली मारकर हत्या करने के आठ दिन बाद ही तत्कालीन राष्ट्रपति मा. प्रेमदासा की एक आत्मघाती बम विस्फोट के द्वारा (1 मई, 1993 को) हत्या कर दी गई।
उस दिन हमारे समुदाय के गौरव के अध्याय का अंत हो गया।
नरेन्द्र कुमार दिवाकर
सुधवर, चायल, कौशाम्बी (उ. प्र.)
मो. 9839675023

Leave A Reply