Browsing Category

Article

डेबूजी युथ ब्रिगेड च्या सर्व सभा रद्द

दर्यापूर:- सध्या सर्वत्र कोरोना नावाचे संकट जगासमोर येऊन ठेपले आहे त्याच पार्श्वभूमीवर डेबुजी युथ ब्रिगेड संस्थापक अध्यक्ष मा.राहुलभाऊ वरणकार यांच्या आदेशानुसार डेबुजी युथ ब्रिगेड महाराष्ट्र संघटनेचे सर्व कार्यक्रम व नियोजन बैठका 5…

*?गाडगे महाराज के पैतृक गांव (शेंडग़ांव, अमरावती, महाराष्ट्र) में आयोजित ऐतिहासिक जयंती समारोह ?*

ऐतिहासिक संत गाडगे महाराज की 144वीं जयंती के अवसर पर दिनांक 23 फरवरी, 2020 को उनके पैतृक गांव शेंडग़ांव (अमरावती, महाराष्ट्र) में डेबूजी यूथ ब्रिगेड, अमरावती द्वारा गाडगे जयंती का भव्य आयोजन किया गया जिसमें शामिल होने का अवसर हमें भी मिला।…

*बुद्धिवादी आंदोलन के प्रणेता गाडगे बाबा की कर्मभूमि ऋणमोचन की यात्रा*

ऋणमोचन में बड़ी संख्या में पहुंचे संत गाडगे के अनुयायी युगपुरुष, निष्काम कर्मयोगी, स्वच्छता अभियान के प्रणेता संत गाडगे महाराज जी की कर्मभूमि श्री क्षेत्र ऋणमोचन (अमरावती, महाराष्ट्र) में प्रतिवर्ष पौष माह में लगने वाले मेले में 19 जनवरी,…

डेबूजी युथ ब्रिगेडची अमरावती जिल्हाधिकारी कार्यालयात भेट

मा.जिल्हाधिकाऱ्यांना दिले राष्ट्रीय जयंतीचे निमंत्रण आज दि.०७.०२.२०२० रोज शुक्रवार ला डेबूजी युथ ब्रिगेड महाराष्ट्र च्या अमरावती जिल्हा कार्यकारी ने अमरावती चे मा.जिल्हाधिकारी यांची भेट घेऊन त्यांना २३ फेब्रुवारी २०२० रोजी शेंडगाव येथे…

? *दूसरे समाज की आलोचना से ज्यादा अपने समाज की कमियों को स्वीकार कर उसे सुधारना व दूर करना होगा* ?

? *दूसरे समाज की आलोचना से ज्यादा अपने समाज की कमियों को स्वीकार कर उसे सुधारना व दूर करना होगा* ? साथियों प्रायः यह देखा जाता है कि हम अपनी स्थिति के लिए दूसरों को दोषी ठहराते हैं, जैसे दलितों या यूं कहें कि वंचितों की निम्न स्थिति के…

अगर जिंदा रहना है तो हमें अपनी परंपराओं को बचना ही होगा

साथियों! अगर, हम आज़ादी के बाद अपनी खुद की जरुरत के अनुसार शिक्षा व्यवस्था का विकास करते, जो हमारी जातिगत बुराइयों और रुढियों को तोड़कर, परम्परागत कौशल को एक मज़बूत शैक्षणिक और आर्थिक आधार दे समय के अनुसार निखारता- तो आज हम भी दुनिया में…

शिक्षा ही मुक्ति का द्वार है

साथियों हमारी जाति द्वारा अपने अस्तित्व की लड़ाई में विचार अनिवार्य उपकरण है। क्योंकि विचार शिक्षा से ही पैदा होते हैं और शिक्षा क्लासरूम से शुरू नहीं होती बल्कि बच्चे के जन्म के क्षण से ही शुरू हो जाती है। माता-पिता, वयस्कों और परिवार…

सक्षम और सशक्त सामाजिक-राजनीतिक नेतृत्व समय की जरूरत

*सक्षम और सशक्त सामाजिक-राजनीतिक नेतृत्व समय की जरूरत* साथियों अगर हम सफाई में लगी परंपरागत जातियों को देखें तो पाएंगे कि 2-3 जातियां ही ऐसी हैं जो आज भी अपने परंपरागत पेशे में लगी हैं। आज भी ये जातियां ही सही मायने में समाज सेवा करती…

रजक समाज का इतिहास संक्षिप्त मे

रजक समाज भारत के मूलनीवासी समुदायो मे से एक है और इसका जन्म भी मूलनीवासीयो से ही हुआ है. रजक समाज के लोग अन्य मूलनीवासीयो की तरह बराबरी मे भरोसा करने वाले लोग थे और वे सब बिना भेदभाव के मिलजुलकर रहते थे. रजक समाज के लोग भारत…